top of page

अजमेर शरीफ दरगाह एक मंदिर था, हिंदू संगठन का दावा; एएसआई से परिसर का सर्वे कराने की मांग

परमार ने संवाददाताओं से कहा, "ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह पहले एक प्राचीन हिंदू मंदिर था। दीवारों और खिड़कियों पर स्वास्तिक के प्रतीक हैं। हम मांग करते हैं कि एएसआई दरगाह का सर्वेक्षण करे।"

जयपुर: अजमेर में सूफी संत मोइनुद्दीन चिश्ती की समाधि को कभी मंदिर बताते हुए एक हिंदू संगठन ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा परिसर के सर्वेक्षण की मांग की है। महाराणा प्रताप सेना के राजवर्धन सिंह परमार ने दावा किया कि दरगाह की दीवारों और खिड़कियों पर हिंदू प्रतीक मौजूद थे।

हालांकि, सेवकों ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा कोई प्रतीक नहीं था।


परमार ने संवाददाताओं से कहा, "ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह पहले एक प्राचीन हिंदू मंदिर था। दीवारों और खिड़कियों पर स्वास्तिक के प्रतीक हैं। हम मांग करते हैं कि एएसआई दरगाह का सर्वेक्षण करे।"


सेवकों के निकाय अंजुमन सैयद जदगन के अध्यक्ष मोइन चिश्ती ने कहा कि दावा निराधार है क्योंकि मकबरे में ऐसा कोई प्रतीक नहीं है। उन्होंने कहा कि हर साल लाखों लोग, हिंदू और मुसलमान, यहां आते हैं।

"मैं पूरी जिम्मेदारी के साथ यह कह रहा हूं कि स्वास्तिक का प्रतीक दरगाह में कहीं नहीं है। दरगाह 850 साल से है। ऐसा कोई सवाल ही नहीं उठा। आज देश में एक खास तरह का माहौल है जो कभी नहीं था, " उन्होंने कहा।


उन्होंने कहा कि ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की समाधि पर सवाल उठाने का मतलब उन करोड़ों लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाना है जो अपने धर्म के बावजूद वहां नमाज अदा करते हैं। चिश्ती ने कहा कि ऐसे तत्वों को जवाब देना सरकार का काम है। समाधि सचिव वाहिद हुसैन चिश्ती ने इस दावे को सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास बताया।

Commentaires


bottom of page