top of page

अयोध्या राम मंदिर का 50 प्रतिशत काम पूरा : सीएम योगी आदित्यनाथ

'संत समागम' को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा, "भारत का सनातन धर्म हमारी 'गौ माता' (गायों) की सुरक्षा को अत्यधिक महत्व देता है।"

image source: livehindustan

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, जिन्होंने राजस्थान के श्री पंचखंड पीठ में गुरुवार (6 अक्टूबर) को एक कार्यक्रम में भाग लिया, ने कहा कि अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर का 50 प्रतिशत से अधिक काम पूरा हो चुका है। उन्होंने कहा कि 'श्री पंचखंड पीठ' ने हमेशा सभी सामाजिक और धार्मिक आंदोलनों में अग्रणी भूमिका निभाई है।


श्री पंचखंड पीठ, राजस्थान में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा, "महात्मा रामचंद्र वीर जी महाराज और स्वामी आचार्य धर्मेंद्र जी महाराज ही थे जिन्होंने देश के प्रति निस्वार्थ भाव से योगदान दिया। 'पीठ' ने भी जनता की भागीदारी सुनिश्चित करने में देश के कल्याण के लिए संतों के नेतृत्व में विभिन्न अभियान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


स्वामी सोमेंद्र शर्मा के 'छादरपोशी' समारोह के दौरान आदित्यनाथ ने कहा कि आचार्य धर्मेंद्र का तीन पीढ़ियों से गोरक्षपीठ से गहरा संबंध रहा है। मुख्यमंत्री योगी ने 'संत समागम' को संबोधित करते हुए कहा, "भारत का सनातन धर्म हमारी 'गौ माता' (गायों) की सुरक्षा को अत्यधिक महत्व देता है।"


उन्होंने आगे कहा, "राम मंदिर के उस सपने को साकार करने के लिए समर्पित प्रयास किए गए, जिसके लिए 1949 में आंदोलन शुरू हुआ था। परिणामस्वरूप, आज, राम मंदिर, जो आचार्य जी का एक सपना भी था, पर 50 प्रतिशत से अधिक काम पूरा हो गया है।


सीएम ने कहा कि आचार्य जी खुलकर और तर्कसंगत तरीके से अपने विचार व्यक्त करते थे। इसका परिणाम यह होता है कि हिंदू समुदाय उनके प्रति श्रद्धा और सम्मान रखता है। उन्होंने कहा, "आज आचार्य जी शारीरिक रूप से मौजूद नहीं हैं, उनके मूल्य, आदर्श और योगदान हम सभी के बीच जीवित हैं।"


राम मंदिर के 'गर्भ गृह' या मंदिर के गर्भगृह के निर्माण की आधारशिला इस साल जून में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रखी थी। अयोध्या में भगवान राम के मंदिर का निर्माण तेजी से चल रहा है। 5 अगस्त, 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी और तब से मंदिर का निर्माण कार्य चल रहा है।


भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई (अब सेवानिवृत्त) के नेतृत्व में सुप्रीम कोर्ट की पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने 9 नवंबर, 2019 को सर्वसम्मति से अपना फैसला सुनाया था कि अयोध्या में जहां बाबरी मस्जिद थी, वह भूमि राम लला की है।

Comments


bottom of page