top of page

जम्मू-कश्मीर के डीजी (जेल) एचके लोहिया हत्याकांड: आरोपी की डायरी में मिले नोट्स

घटना स्थल से एकत्र किए गए कुछ सीसीटीवी फुटेज में संदिग्ध आरोपी को इस अपराध के दृश्य के बाद भागते हुए भी देखा गया है। वह इस घर में करीब 6 महीने से काम कर रहा था|

नई दिल्ली: पुलिस ने मंगलवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के डीजी (जेल) हेमंत कुमार लोहिया की हत्या की प्रारंभिक जांच में टेरर एंगल की ओर इशारा नहीं किया गया क्योंकि उनके घरेलू नौकर को गिरफ्तार करने के प्रयास जारी था।


पुलिस के सर्च ऑपरेशन के बाद मामले का मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी यासिर लोहार जम्मू के कनाचक इलाके में खेत में छिपा हुआ मिला। लोहिया की सोमवार देर रात जम्मू के बाहरी इलाके में उनके आवास पर हत्या कर दी गई थी।


घटना स्थल से एकत्र किए गए कुछ सीसीटीवी फुटेज में भी संदिग्ध आरोपी इस अपराध को अंजाम देने के बाद भागते हुए दिखाई दे रहा हैं। वह करीब 6 महीने से इस घर में काम कर रहा था। शुरुआती जांच में यह भी पता चला है कि वह अपने व्यवहार में काफी आक्रामक था और सूत्रों के मुताबिक वह डिप्रेशन में भी था।


अधिकारियों ने कहा कि संदिग्ध अपराधी यासिर लोहार (23) को गिरफ्तार करने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है, जो रामबन जिले के हल्ला-धंडरथ गांव का निवासी हैं। पुलिस डीजी दिलबाग सिंह ने इस घटना को "बेहद दुर्भाग्यपूर्ण" बताया और कहा कि नौकर को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान शुरू किया गया था , जो फरार हो गया था। सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि संदिग्ध ने 57 वर्षीय लोहिया के शरीर को आग लगाने का भी प्रयास किया था।

Commentaires


bottom of page