top of page

दिल्ली में निजी कार्यालय बंद करने के आदेश; बढ़ते कोरोना मामलों के चलते वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा

डीडीएमए ने अपने रिवाइज्ड गाइडलाइन्स में कहा, दिल्ली में निजी कार्यालयों के कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का पालन करने के निर्देश जायेंगे।अथॉरिटी का यह फैसला शहर में बढ़ते COVID-19 मामलों के बीच आया है।


नई दिल्ली: डीडीएमए ने अपने रिवाइज्ड गाइडलाइन्स में कहा कि दिल्ली में सभी निजी कार्यालय बंद रहेंगे, सिवाय उन कार्यालय व लोगो के जो एक्सेम्पटेड (छूट) केटेगरी में आते है।


दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (डीडीएमए) द्वारा मंगलवार को जारी आदेशों में निजी कार्यालयों में वर्क फ्रॉम होम का पालन करने के निर्देश जायेंगे । अब तक शहर के निजी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ कार्य करने की अनुमति थी। निजी कार्यालयों की छूट वाली श्रेणी में बैंक, आवश्यक सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियां, बीमा और मेडिक्लेम, फार्मा कंपनियां, वकीलों के कार्यालय, कूरियर सेवाएं, गैर-बैंकिंग वित्तीय निगम, सुरक्षा सेवाएं, मीडिया, पेट्रोल पंप और तेल और गैस रिटेल आउटलेटऔर शामिल हैं।


दिल्ली सरकार ने सोमवार को शहर के रेस्तरां में डाइन-इन व बार सुविधा पर प्रतिबन्ध लगा दिया है और केवल फ़ूड आइटम्स की होम डिलीवरी और टेकअवे की अनुमति दी।

इस बीच, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की कि दिल्ली सरकार बुधवार से होम आइसोलेशन में COVID-19 रोगियों के लिए ऑनलाइन योग कक्षाएं शुरू करेगी।


दिल्ली में COVID स्पाइक

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोनावायरस और बढ़ते ओमीक्रॉन संस्करण के मामलों में खतरनाक वृद्धि के बीच यह निर्णय आया है। शहर में कल कोरोनावायरस के 19,000 से अधिक नए मामले दर्ज किए गए और संक्रमण के कारण 17 और मौतें हुईं।


इस महीने के पहले 10 दिनों में, दिल्ली में 70 कोरोनावायरस ​​​​से संबंधित मौतें दर्ज की गई हैं, जो पिछले पांच महीनों में शहर में हुई मौतों की तुलना में बहुत अधिक है।


व्यापारी संगठनों ने किया नए आदेश का विरोध

व्यापारियों के संगठन CAIT ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर निजी कार्यालयों को बंद करने का विरोध किया है।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने आदेश पर पुनर्विचार की मांग करते हुए कहा कि इस फैसले से दिल्ली के कारोबार और कई लोगों के रोजगार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।


"हालांकि हम आपको आदेश के अनुपालन का आश्वासन देते हैं, लेकिन हम यह उल्लेख करना चाहेंगे कि दिल्ली में लगभग 3 लाख से अधिक कार्यालय व्यवसाय और अन्य गतिविधियों का संचालन करते हैं और लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करते हैं," यह भी कहा।

व्यापारियों के निकाय ने सुझाव दिया कि बंद करने के बजाय, कार्यालयों को 50 प्रतिशत कर्मचारियों की क्षमता पर संचालित करने की अनुमति दी जानी चाहिए।


कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने यह भी कहा कि बड़ी संख्या में व्यापारी अपने कार्यालयों के माध्यम से अपनी व्यावसायिक गतिविधियों का संचालन कर रहे हैं, न कि डिजिटल मोड के माध्यम से और इस प्रकार “घर से काम करने की नीति काम नहीं करेगी”।

Comentarios


bottom of page