top of page

शाही ईदगाह मस्जिद: ज्ञानवापी विवाद के बीच मथुरा मस्जिद में नमाज रोकने की मांग

हिंदुत्ववादी संगठन लंबे समय से दावा करते रहे हैं कि मुगल बादशाह औरंगजेब ने कृष्ण मंदिर के एक हिस्से को तोड़कर वहां मस्जिद बनाई थी। नतीजतन, मस्जिद को हटा दिया जाना चाहिए।

मथुरा: ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर बहस जारी है। इस बीच, वकीलों और कानून के छात्रों के एक वर्ग ने मथुरा शहर के मंदिर में शाही ईदगाह मस्जिद में नमाज को रोकने की मांग की। अदालत से उनकी दलील थी कि उन्हें तत्काल शाही ईदगाह मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए आने पर रोक लगा दी जाए। याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि शाही ईदगाह मस्जिद वास्तव में कृष्ण की जन्मभूमि थी। मस्जिद से पहले स्थल पर एक मंदिर था। याचिकाकर्ता के वकीलों में से एक शैलेंद्र सिंह ने कहा, "मस्जिद की यह संरचना एक हिंदू मंदिर के अवशेषों पर बनी है। यह एक मंदिर है और इस संरचना पर मस्जिद होने का कोई मतलब नहीं है।"


उन्होंने कहा कि उन्होंने इस संरचना के उपयोग में मुस्लिम समुदाय पर स्थायी प्रतिबंध लगाने की मांग करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया। हिंदुत्ववादी संगठन लंबे समय से दावा करते रहे हैं कि मुगल बादशाह औरंगजेब ने कृष्ण मंदिर के एक हिस्से को तोड़कर वहां मस्जिद बनाई थी। नतीजतन, मस्जिद को हटा दिया जाना चाहिए।


इससे पहले भी विभिन्न हिंदुत्ववादी संगठनों ने मथुरा कोर्ट में 10 याचिकाएं दायर कर मस्जिद को हटाने की मांग की थी। इस मस्जिद से सटा एक कृष्ण मंदिर भी है, कटरा केशव देव मंदिर। हिंदुत्ववादी संगठनों ने यह भी दावा किया कि मस्जिद का क्षेत्र पहले केशव देव मंदिर का था।


इस साल के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में देशवासियों पर खासा फोकस था। भाजपा ने दावा किया कि अगर उसकी पार्टी सत्ता में लौटी तो मंदिर भी लौट आएगा। मथुरा विधानसभा सीट पर भी बीजेपी ने जीत हासिल की है। भाजपा के श्रीकांत शर्मा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के प्रदीप माथुर को एक लाख से अधिक के अंतर से हराया। राजनीतिक जानकारों का पहले मानना ​​था कि अगर मथुरा में बीजेपी की जीत हुई तो शहर में मंदिर-मस्जिद विवाद भी बढ़ सकता है।

Comentarios


bottom of page