top of page

गुरु नानक जयंती पर पीएम नरेंद्र मोदी की बड़ी घोषणा: तीन विवादित कृषि कानूनों को वापस लिया जाएगा

पीएम मोदी ने कहा कि तीन कानून किसानों के लाभ के लिए लाए गए थे लेकिन "हम सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद किसानों को मना नहीं सके"। उन्होंने कहा कि तीन कृषि कानूनों का लक्ष्य किसानों, खासकर छोटे किसानों को सशक्त बनाना था।

image source: times now

नई दिल्ली: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सुबह 9 बजे राष्ट्र को संबोधित किया, जिस दौरान उन्होंने एक बड़ी घोषणा की कि उनकी सरकार ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को रद्द करने का फैसला किया है। पीएम ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन के दौरान कहा, "हमने तीन कृषि कानूनों को रद्द करने का एक बड़ा फैसला लिया है।"


पीएम मोदी ने कहा कि तीन कानून किसानों के लाभ के लिए लाए गए थे लेकिन "हम सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद किसानों के एक वर्ग को मना नहीं सके"। उन्होंने कहा कि तीन कृषि कानूनों का लक्ष्य किसानों, खासकर छोटे किसानों को सशक्त बनाना था । पीएम ने कहा, "उनमें से एक वर्ग कृषि कानूनों का विरोध कर रहा है, यहां तक ​​कि हमने उन्हें शिक्षित व सूचित करने के लिए कड़ी मेहनत की, पर अब हम कृषि कानूनों को रद्द कर रहे हैं।


पीएम ने देश के गरीबों और किसानों के कल्याण के लिए एनडीए सरकार द्वारा उठाए गए कई उपायों को भी रेखांकित किया। पीएम ने कहा, "अपने पांच दशकों के काम में, मैंने किसानों के सामने आने वाली कठिनाइयों को देखा है। जब देश ने मुझे प्रधान मंत्री बनाया, तो मैंने 'कृषि विकास' (किसानों के विकास) को अत्यधिक महत्व दिया।"


"हमने किसानों को उचित दरों पर बीज उपलब्ध कराने और सूक्ष्म सिंचाई, 22 करोड़ सॉइल हेल्थ कार्ड जैसी सुविधाएं प्रदान करने में काम किया जिसके कारन कृषि उत्पादन बढ़ाने में योगदान मिला है। हमने फसल बीमा योजना को मजबूत किया, इसके तहत अधिक किसानों को इस योजना के अंतर्गत लाये," पीएम ने कहा।


पीएम ने आगे कहा कि उनकी सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत की कि किसानों को उनकी मेहनत का सही दाम मिले और कई कदम उठाए। "हमने ग्रामीण बुनियादी ढांचे के बाजार को मजबूत किया। हमने न केवल एमएसपी बढ़ाया बल्कि रिकॉर्ड सरकारी खरीद केंद्र भी स्थापित किए", पीएम ने कहा।


पीएम ने कहा कि देश के छोटे किसानों को चुनौतियों से लड़ने के लिए उनकी सरकार ने किसानों के लिए बीज, बीमा, बाजार और बचत पर चौतरफा काम किया। उन्होंने कहा, "अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों के साथ-साथ सरकार ने किसानों को नीम कोटेड यूरिया, सॉइल हेल्थ कार्ड, सूक्ष्म सिंचाई जैसी सुविधाओं से भी जोड़ा।"


प्रधानमंत्री ने 'फसल बीमा योजना' का जिक्र करते हुए कहा कि इससे किसानों को भी मदद मिली है। किसानों को मुआवजे के तौर पर एक लाख करोड़ रुपये दिए गए हैं और बीमा और पेंशन भी मुहैया कराई गई है। - पीएम ने कहा।


उन्होंने कहा कि ग्रामीण बाजार के बुनियादी ढांचे को मजबूत किया गया है और मिनिमम सपोर्ट प्राइस (एमएसपी) बढ़ाया गया है। 1,000 मंडियों को ई-मंडियों से जोड़ा गया है, जिससे उन्हें देश में कहीं भी अपनी उपज बेचने के लिए एक मंच मिल मिला। पीएम मोदी ने कहा, "कृषि बजट में भी सालाना 1.25 लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च होने से पांच गुना वृद्धि हुई है।"


अपने भाषण के दौरान, पीएम ने किसानों से अपना आंदोलन समाप्त करने और अपने घरों को वापस जाने की अपील भी की।'' पीएम ने कहा, ''आज गुरु पर्व है, मैं सभी किसानों से अपने परिवार के पास वापस जाने का अनुरोध करता हूं।'' इस महीने शुरू होने वाले संसद सत्र में प्रक्रिया शुरू करेंगे। मैं किसानों से अपने परिवारों के घर लौटने का आग्रह करता हूं और हम एक फ्रेश शुरुआत करते है।" पीएम मोदी ने कहा।


पीएम मोदी ने देव दीपावली और प्रकाश पर्व के अवसर पर सभी को बधाई देकर अपने संबोधन की शुरुआत की। पीएम ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा, "यह सुखद है कि करतारपुर कॉरिडोर 1.5 साल के अंतराल के बाद फिर से खुला गया है।"


"गुरु नानक जी ने कहा था कि 'विच दुनिया सेव कमाये, तान दरगाह बैसन पइया'। इसका मतलब है कि राष्ट्र सेवा का मार्ग अपनाने से ही जीवन अच्छा हो सकता है। हमारी सरकार सेवा की भावना के साथ लोगों का जीवन आसान बनाने काम कर रही है । '' पीएम ने कहा।


प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अनुसार, प्रधानमंत्री बाद में उत्तर प्रदेश के महोबा में सिंचाई से संबंधित प्रमुख योजनाओं का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद प्रधान मंत्री "राष्ट्र रक्षा सम्पर्ण पर्व" के लिए झांसी जायेंगे ।

इस आयोजन के दौरान, वह औपचारिक रूप से भारतीय नौसेना को नौसेना के जहाजों के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा डिज़ाइन किया गया एडवांस इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर (EW) सौंपेंगे।


पिछली बार जब प्रधान मंत्री ने अक्टूबर में राष्ट्र को संबोधित किया था, तब भारत ने एक बिलियन COVID-19 टीकाकरण करके इतिहास रचा था, ऐसा करने वाला भारत , चीन के बाद दुनिया का दूसरा देश बना था।

इस हफ्ते की शुरुआत में, करतारपुर साहिब कॉरिडोर - पाकिस्तान को गुरु नानक की जयंती से कुछ दिन पहले फिर से खोल दिया गया था। मार्च 2020 में पाकिस्तान ने कोविड के प्रकोप के बाद भारत से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया था और करतारपुर कॉरिडोर पर आवाजाही को निलंबित कर दिया गया था।


Comentarios


bottom of page